Homeमानसभगवान ने नहीं दिया मां बनने का सुख फिर भी 150 बच्चों...

भगवान ने नहीं दिया मां बनने का सुख फिर भी 150 बच्चों की मां कहलाती हैं लीला

Published on

मां बनने का एहसास दुनिया में सबसे खास होता है। 150 बेटियों की मां हैं किन्नर लीला। सुनकर बड़ा ताज्जुब होगा, लेकिन यह सच है। भगवान ने भले ही लीलाबाई की कोख से किसी बेटी को जन्म नहीं दिया हो, लेकिन वर्तमान में 150 से अधिक बेटियां ऐसी हैं, जिनके लिए किन्नर लीला सगी मां से भी ज्यादा प्यार बरसाती है। गरीबी व मुफलिसी में पली इन बेटियों को विदा करने के लिए मां-बाप के पास जब कुछ नहीं होता था तो किन्नर लीला ने आगे आकर एक मां का फर्ज अदा किया। बेटियों को गोद लेने के साथ ही बेटी को दहेज में दिए जाने वाले घर बिक्री के सामान सहित उसके ब्याह का पूरा खर्चा उठाया।

करीब तीस साल पहले अपने पास की ही बस्ती में रहने वाली एक गरीब परिवार की बेटी को गोद लेकर उसकी शादी करवाई तो बाद में जैसे इस कार्य में उन्हें सुकून मिलने लगा। इसके बाद बाड़मेर जिले के बालोतरा शहर सहित जिलेभर में जहां कहीं भी गरीब घर की बेटी के बारे में सुनती तो उनसे मिलकर बेटी की सारी जिम्मेदार लेकर उसके शादी-ब्याह का अधिकांश खर्चा स्वयं करती।

किन्नर लीला ने बेटियों के लिए मां का फर्ज अदा किया तो बेटियां आज भी उसे जन्म के बाद पालनहार के रूप में देखती है। यही वजह है कि ब्याही गई बेटियां आज भी पीहर आती हैं तो घर जाने से पहले किन्नर लीला के घर पहुंचकर आशीर्वाद लेती हैं। लीलाबाई के तीस साल पहले शुरू हुए इस सफर में अब तक 150 से अधिक बेटियों को गोद लेकर उनकी जरूरत के मुताबिक खर्च उठाकर शादी-विवाह करवाया। इतना ही नहीं लीला ने बताया कि भविष्य में जब तक वह जिंदा है। इसी तरह की बेटियों की मदद करती रहेगी।

इसके साथ ही लीला का बड़ा सपना है गाय माता का संरक्षण करना। यजमानों से मिली वाली राशि का एक फिक्स हिस्सा व गो सेवा के लिए निकालती है। वहीं, कच्ची बस्ती में रहने वाली लीलाबाई के आस-पड़ोस में रहने वाले गरीब परिवारों के बच्चों के लिए पाठ्यसामग्री, पोशाक सहित शिक्षण का जिम्मा भी संभाल रही है।

स्कूलों में बच्चों को जरूरत की सामग्री तो गायों के लिए हरा चारा व पानी की जिम्मेदारी संभाल रही है। बालोतरा किन्नर समाज की अध्यक्ष लीलाबाई के घर में आधा दर्जन शिष्य रहते हैं, जिनको लीलाबाई आमजन से जुड़कर उनके सुख-दु:ख में भागीदार बनने की सीख देती हैं।

लीला बाई का घर

किन्नर लीला गरीब बेटियों के साथ ही जरूरतमंद की सेवा के लिए हरदम आगे रहती हैं। बेटियों की शादी के अलावा वे अपनी कमाई का चौथा हिस्सा गो सेवा व शिक्षा पर भी खर्च करती है। कच्ची बस्ती में रहने वाली लीला बाई के आस-पड़ोस में अधिकांश दिहाड़ी मजदूर व आर्थिक हालात से कमजोर परिवार रहते हैं, जिनके बच्चों के लिए स्कूल फीस, किताबें, पोशाक व जूते आदि खरीदना बूते से बाहर की बात है।

उन बच्चों के शिक्षण का जिम्मा लीला बाई संभाल रही हैं। इसके अलावा समय-समय पर कच्ची बस्तियों वाले स्कूलों में सर्दी के मौसम में स्वेटर, जूते, पोशाक व पाठ्य सामग्री आदि वितरित करती है। इसके अलावा गायों के चारा-पानी के लिए भी लीलाबाई कमाई का खासा हिस्सा लगा देती है। प्रतिदिन गायों के लिए हरा चारा व पानी की व्यवस्था की जा रही है, जिसकी देखरेख वह स्वयं करती है। यही वजह है कि किन्नर लीलाबाई के नाम के आगे गोभक्त भी लगाया जाता है।

Latest articles

अब Haryana के इन रूटों पर वंदे भारत समेत कई ट्रेनें दौड़ेंगी 130 की स्पीड से, सफर होगा आसान

हरियाणा सरकार जनता के लिए हमेशा कुछ ना कुछ अच्छा करती रहती है। जिससे कि उनका काम आसान हो सके। वह आसानी से कहीं...

हरियाणा के इन जिलों में बनेंगे नए Railway Track, सफर होगा आसान

हरियाणा से और राज्यों को जोड़ने के लिए व जिलों में कनेक्टिविटी के लिए हरियाणा सरकार रोजाना कुछ न कुछ करती की रहती है।...

Haryana में इन लोगो को मिलेंगे E-Smart Card, रोडवेज में कर सकेंगे Free यात्रा, जाने पूरी खबर

लोगों की सुविधा के लिए हरियाणा सरकार हर संभव प्रयास करती है कि गरीब लोगों को किसी के आगे हाथ फैलाने की जरूरत ना...

हरियाणा और पंजाब में इन दोनों हो सकती है भारी बारिश, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

वर्तमान में देखा जाए तो देश के कई हिस्सों में ठंड और कोहरा सक्रिय होता हुआ नजर रहा है। ठंडी हवाएं चलनी शुरू हो...

More like this

भांजी की शादी में भरा ‘एक करोड़ का भात’, गड्डियां गिनते-गिनते थक गए सभी…

भांजी की शादी में भरा 'एक करोड़ का भात', गड्डियां गिनते-गिनते थक गए सभी...

टमाटर के बाद अब दाल की कीमत में गिरावट, लोगों को मिलेगी बड़ी राहत

टमाटर के दाम पहले से ही आसमान छू रहे हैं लेकिन, अब दालों की...