Homeजिलाकैथलदेश ही नहीं विदेश तक हैं हरियाणा की इस मिठाई के चर्चे,...

देश ही नहीं विदेश तक हैं हरियाणा की इस मिठाई के चर्चे, जिसके बिना अधूरा माना जाता है सावन

Published on

जैसे ही सावन का महीना शुरू होता है तो हर तरफ सावन की स्पेशल मिठाइयां (Special Sweets) तैयार की जाती हैं। पूरे साल लोग इन मिठाइयों के लिए सावन के आने का इंतजार करते हैं। वहीं अब हरियाणा के पूंडरी में भी सावन के हसीन तोहफे के नाम से मशहूर फिरनी (Pundri ki firni) बनना शुरू हो चुकी है। कहते हैं कि फिरनी एक ऐसी मिठाई है जिसके बिना बहन की कोथली (Behan ki kothali) अधूरी है। सावन के महीने में जब भाई अपनी विवाहिता बहन के घर कोथली लेकर जाते हैं तो उसमें फिरनी सबसे खास होती है।

वैसे तो करीब एक महीना पहले ही फिरनी बनाने का काम शुरू हो जाता है। लेकिन माना जाता है कि फिरनी खाने का असली मजा मानसून की पहली बारिश के बाद ही आता है। 30 जून को मानसून की जोरदार बारिश के बाद से फिरनी का सीजन अपने जोरों शोरों पर है।

पूंडरी में जितनी भी मिठाई की दुकानें हैं सभी इन दिनों फिरनी से सजी हुई हैं। सभी हलवाई फिरनी बनाने के काम जुटे हुए हैं। पूंडरी-फतेहपुर में भारी तादाद में बनने वाली फिरनी प्रदेश में ही नहीं विदेशों में भी अपनी महक फैला रही है।

बच्चे ही नहीं बड़े बुजुर्ग भी इस मिठाई के दीवाने हैं। मैदा, चीनी और घी के मिश्रण से यह लाजवाब मिठाई बनती हैं। सावन आते ही प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में पूंडरी की फिरनी की डिमांड शुरू हो जाती है। जैसे ही फिरनी की डिमांड बढ़ने लगती है तो फिरनी बनाने वाले कारीगरों की मांग बढ़ जाती है और कई बार तो ढूंढने पर भी कारीगर नहीं मिलते।

पूंडरी फतेहपुर हलवाई यूनियन के प्रधान रघुबीर सैनी ने बताया कि दो से तीन महीने तक चलने वाले इस फिरनी के सीजन में दिन-रात काम करने के बावजूद भी वह आर्डर पूरा नहीं कर पाते। फिरनी का मिश्रण तैयार करने से लेकर इसे बनाने की प्रक्रिया बड़े ध्यान से की जाती है। तभी फिरनी की सही मिठास और स्वाद मिल पाता है। उन्होंने कहा कि फिरनी का स्वाद क्या बच्चे, युवा और बुजुर्ग सभी मिलकर उठाते है। पिछले कई वर्षों से फिरनी का मिश्रण तैयार करने के लिए आधुनिक मशीनों का प्रयोग किया जाता है।

फिरनी का सीजन शुरू होते ही पूंडरी ही नहीं प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में भी फिरनी बनाने का काम शुरू हो जाता है। लेकिन पूंडरी जैसा स्वाद कहीं नहीं मिल पाता। यह मिठाई फिर भैया दूज तक बनाई जाती है। बहनों को जाने वाली कोथली में घेवर (Ghevar) व अन्य मिठाइयों के साथ साथ फिरनी भी जरूर जाती है।

Latest articles

हरियाणा के इस गांव मे सरपंच बनी नई नवेली दुल्हन, शादी के कुछ दिन बाद ही संभाली गांव की कमान

अभी हाल ही में 25 नवंबर को पूरे हरियाणा में पंचायत चुनाव हुए हैं। इस बार युवाओं ने चुनावो में बढ़ चढ़ के भाग...

हरियाणा सरकार ने भव्य बिश्नोई को बनाया विधानसभा लेखा समिति का मेंबर,इसी हफ्ते ली है विधायक की शपथ

अभी हाल ही में हरियाणा सरकार ने आदमपुर विधानसभा सीट से नवनिर्वाचित विधायक भव्य बिश्नोई को एक नई जिम्मेदारी सौंपी है। उन्हें विधानसभा में...

इस दिन बंद रहेगा पूरा हरियाणा, सरकारी छुट्टी की घोषणा, स्कूल से लेकर सरकारी ऑफिस तक रहेंगे बंद रहेंगे

आने वाले सोमवार यानि कि 28 नवंबर को एक बार फिर से हरियाणा सरकार ने सरकारी छुट्टी घोषित कर दी है। इस दिन सभी...

पंचायत चुनाव मतगणना के अवसर पर कल बंद रहेंगे हरियाणा के सभी ठेके, उल्लंघन करनें पर हो सकती इतने महीने की सजा

बीते शुक्रवार को हरियाणा के सभी जिलों में ग्राम पंचायत के सरपंच के चुनाव हो चूके है। जिसके परिणाम भी उसी दिन ही आ...

हरियाणा की सोनाली फोगाट के हत्‍याकांड मामले में हुआ बड़ा खुलासा,इस वजह से गई है जान

बीते कुछ महीनों से चल रहे सोनाली फोगाट के हत्‍याकांड मामले में एक बडा...

नैना चौटाला ने हरियाणा में जजपा और बीजेपी के गठबंधन पर दिया बड़ा बयान, यहां जानें क्या कहा उन्होंने अपनें बयान में

इन दिनों हरियाणा के प्रत्येक जिले में पंचायत और जिला पार्षद के चुनाव चल...

हरियाणा में सरकार को मजबूत बनाने के लिए भाजपा – जजपा मिलकर करेंगे बड़ी रैली का आयोजन, गठबंधन मजबूत बनाने के लिए अपनाई नई...

इन दिनों हरियाणा में बीजेपी (भारतीय जनता पार्टी) और जजपा (जननायक जनता पार्टी) अपने...

More like this

हरियाणा के इस गांव मे सरपंच बनी नई नवेली दुल्हन, शादी के कुछ दिन बाद ही संभाली गांव की कमान

अभी हाल ही में 25 नवंबर को पूरे हरियाणा में पंचायत चुनाव हुए हैं।...

इस दिन बंद रहेगा पूरा हरियाणा, सरकारी छुट्टी की घोषणा, स्कूल से लेकर सरकारी ऑफिस तक रहेंगे बंद रहेंगे

आने वाले सोमवार यानि कि 28 नवंबर को एक बार फिर से हरियाणा सरकार...