Homeपढ़ाई लिखाईबड़ा फैसला: इस तारीख से फरीदाबाद-गुरुग्राम सहित हरियाणा के इन जिलों में...

बड़ा फैसला: इस तारीख से फरीदाबाद-गुरुग्राम सहित हरियाणा के इन जिलों में खुलने जा रहे हैं पहली से 9वीं तक के स्कूल

Published on

हरियाणा में महामारी का कहर धीरे-धीरे कम हो रहा है। महामारी के कारण विद्यार्थियों की शिक्षा बुरी तरह से प्रभावित हुई। इसको देखते हुए हरियाणा सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। गुरुग्राम, फरीदाबाद सहित हरियाणा के कई जिलों में पहली से नौवीं तक के स्कूल वीरवार 10 फरवरी से खोलने का फैसला किया गया है। राज्य सरकार इससे पहले दसवीं से 12वीं तक के स्कूल खोलने का फैसला ले चुकी है। हरियाणा सरकार पर खासकर निजी स्कूल प्रबंधक लगातार दबाव बना रहे थे कि पहली से नौवीं तक के स्कूलों को भी खोला जाए। इसी को देखते हुए विभाग ने सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए स्कूल खोलने के लिए प्रपोजल तैयार किया।

शिक्षा निदेशक जे गणेशन ने पहली से नौवीं तक के बच्चों को भी स्कूल बुलाने का प्रस्ताव शिक्षा मंत्री कंवर पाल गुर्जर के पास भेजा था। इसमें 10 फरवरी से स्कूलों को खोलने की सिफारिश की गई है। शिक्षा मंत्री ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल से विचार-विमर्श के बाद अब स्कूल खोलने का निर्णय ले लिया है। 

हरियाणा में अतिथि अध्यापकों को अब फिर से पहले की तरह आकस्मिक अवकाश (सीएल) मिले सकेंगे। अतिथि अध्यापकों की हड़ताल के चलते पिछले साल 30 दिसंबर को सरकार ने आकस्मिक अवकाश लेने पर रोक लगा दी थी।

सोमवार को शिक्षा निदेशक ने इस आदेश को वापस लेते हुए सीएल बहाल करने के निर्देश जारी कर दिए। वहीं, अतिथि अध्यापकों की सेवाएं बोर्ड परीक्षा और पेपर की जांच में भी ली जाएगी।

शिक्षा निदेशक द्वारा जारी सभी जिला शिक्षा अधिकारियों और मौलिक शिक्षा अधिकारियों को जारी लिखित आदेशों में कहा गया है कि अतिथि अध्यापकों को जब परीक्षा केंद्रों का अधीक्षक या सुपरवाइजर बनाया जाता है तो कुछ स्थाई कर्मचारी इसका विरोध करते हैं।

उनका तर्क होता है कि अतिथि अध्यापक सही से ड्यूटी नहीं निभा सकते जो कि सही नहीं। इसलिए भविष्य में जब भी अतिथि अध्यापकों की बोर्ड परीक्षा में ड्यूटी लगाई जाए, उसका पूरी तरह पालन किया जाना चाहिए।

अतिथि अध्यापकों की हड़ताल को खत्म करने के लिए मुख्यमंत्री मनोहर लाल की अगुवाई में हुई बैठक में आकस्मिक अवकाश और बोर्ड परीक्षा में ड्यूटी का मुद्दा जोर-शोर से उठा था।

इसके बाद अतिथि शिक्षकों को सालाना 20 आकस्मिक अवकाश, बोर्ड ड्यूटी वरिष्ठता व कैडर के अनुसार लगाने, सेवा नियम बनाने, पांच लाख रुपये तक का स्वास्थ्य बीमा, ग्रेच्युटी, मातृत्व अवकाश, पितृत्व अवकाश, मिस कैरिज अवकाश, जीआइएस खाता, 1000 रुपये मेडिकल भत्ता, मोरनी व मेवात क्षेत्र में कार्य करने वालों को 10 हजार रुपये अतिरिक्त मासिक वेतन, सेवानिवृति के बाद फिर से ज्वाइनिंग कराने पर सहमति बनी थी। अब सरकार ने इस समझौते को सिरे चढ़ाना शुरू कर दिया है।

Latest articles

अब Haryana के इन रूटों पर वंदे भारत समेत कई ट्रेनें दौड़ेंगी 130 की स्पीड से, सफर होगा आसान

हरियाणा सरकार जनता के लिए हमेशा कुछ ना कुछ अच्छा करती रहती है। जिससे कि उनका काम आसान हो सके। वह आसानी से कहीं...

हरियाणा के इन जिलों में बनेंगे नए Railway Track, सफर होगा आसान

हरियाणा से और राज्यों को जोड़ने के लिए व जिलों में कनेक्टिविटी के लिए हरियाणा सरकार रोजाना कुछ न कुछ करती की रहती है।...

Haryana में इन लोगो को मिलेंगे E-Smart Card, रोडवेज में कर सकेंगे Free यात्रा, जाने पूरी खबर

लोगों की सुविधा के लिए हरियाणा सरकार हर संभव प्रयास करती है कि गरीब लोगों को किसी के आगे हाथ फैलाने की जरूरत ना...

हरियाणा और पंजाब में इन दोनों हो सकती है भारी बारिश, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

वर्तमान में देखा जाए तो देश के कई हिस्सों में ठंड और कोहरा सक्रिय होता हुआ नजर रहा है। ठंडी हवाएं चलनी शुरू हो...

More like this

35 बार फेल हुआ था Haryana का यह लड़का, लेकिन नहीं मानी हार, आज बन गया IAS

कुछ परीक्षाएं ऐसी होती हैं कि जिन्हें पार कर पाना बहुत ही मुश्किल होता...

Haryana में CET के दूसरे दिन के प्रश्न पत्र में 41 सवाल रिपीट, जाने पूरी खबर

हरियाणा में ग्रुप सी के 32,000 पदों पर भर्तियां की जानी है. इन पदों...

IIT में युवाओं की पहली पसंद बन रहे है यह कोर्स, मिल रहा है अच्छा प्लेसमेंट

देश में हर साल हजारों छात्र जेईई और जेईई एडवांस परीक्षा में शामिल होते...