Homeकुछ भीहरियाणा के इस जिले में मौजूद है देश का अनोखा मंदिर, खुदाई...

हरियाणा के इस जिले में मौजूद है देश का अनोखा मंदिर, खुदाई में निकली थी भगवान बलभद्र की मूर्ति

Published on

देश में मौजूद हर गांव या शहर का अपना धार्मिक और ऐतिहासिक महत्व होता है। कई बार तो गांव की परंपराएं ऐसी होती हैं जिनके बारे में कभी सुना भी नहीं होता। इनका इतिहास बहुत ही दिलचस्प होता है। आज हम आपको ऐसे ही एक गांव के बारे में बताएंगे जो अपना धार्मिक और ऐतिहासिक महत्व समेटे हुए हैं। वैसे तो देश में हजारों मंदिर हैं लेकिन इसका महत्व इसलिए अधिक है क्योंकि पूरे भारतवर्ष में ऐसे केवल दो ही मंदिर है जहां भगवान बलभद्र जी की स्वयंभू मूर्ति स्थापित है। एक मंदिर है हरियाणा के कुरुक्षेत्र जिले से करीब 25 किलोमीटर की दूरी पर मौजूद गांव धौलरा में तो वहीं दूसरा जगन्नाथ पुरी में। यह मंदिर इस गांव की पहचान बन चुका है।

भारत में 2 मंदिर होने की वजह से इसकी महत्ता भी अधिक है हर साल अक्षय तृतीया के दिन यहां श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ जाती है। मेले व भंडारे में पहुंचे श्रद्धालु यहां अपनी इच्छाएं मांगते हैं और जब यह पूरी हो जाती है तो फिर बलभद्र जी का आभार जताने प्रसाद स्वरूप कुछ लेकर आते हैं और अन्य श्रद्धालुओं में बांटते हैं।

मंदिर की महत्ता इतनी अधिक है कि प्रशासन भी यहां पर कुछ नहीं कर पाया है जबकि इसे एक बड़े धार्मिक व पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जा सकता है गांव के साथ-साथ आसपास के लोगों का भी फायदा होगा लोगों को रोजगार के अवसर मिलेंगे।

खुदाई में निकली मूर्ति

मंदिर के पुजारी अरूण पुरी ने बताया कि पूरे भारत में भगवान बलभद्र जी के केवल दो ही ऐतिहासिक मंदिर है। एक यहां गांव धौलरा में स्थित है तो दूसरा जगन्नाथ पुरी में। यहां पिंडी रूप में भगवान श्रीबलभद्र जी विराजमान हैं लेकिन गांव धौलरा में उनकी प्राचीन मूर्ति स्थापित है। पुजारी ने कहा की भगवान बलभद्र की यह मूर्ति करीब 300 वर्ष पहले गांव में मौजूद जोहड़ की खुदाई के समय मिली थी। तब से मूर्ति उसी रूप में यहां पर स्थापित है।

यह है मंदिर का इतिहास

कहा जाता है कि जिस समय यह मूर्ति मिली तो इसे एक व्यक्ति ने अपने साथ ले जाना चाहा। लेकिन दैवीय शक्तियों के कारण वह इसे गांव से बाहर नहीं ले जा सका। जिसके बाद गांव में ही इस मूर्ति की स्थापना की गई और तभी से ग्रामीण पूरे विधि-विधान व धार्मिक आस्था के साथ मंदिर में पूजा अर्चना करते हैं।

हर साल अक्षय तृतीया के दिन यहां विशाल मेले और कुश्ती दंगल का आयोजन होता है। दूर-दूर से श्रद्धालु यहां माथा टेकने आते हैं। मान्यता है कि मंदिर में आने वाले श्रद्धालुओं की मन्नत जरूर पूरी होती है।

नहीं पड़ी सरकार और प्रशासन की नजर

ग्रामीणों का कहना है कि गांव का धार्मिक महत्व भी काफी अधिक है। धर्मनगरी कुरुक्षेत्र से गांव की दूरी महज 25 किलोमीटर है। हरियाणा सरकार धीरे-धीरे धार्मिक स्थलों को भी उभारने का कार्य कर रही है। लेकिन अभी तक सरकार और प्रशासन की नजर उनके गांव पर नहीं पड़ी। अगर सरकार यहां के धार्मिक महत्व को देखते हुए ध्यान दें तो गांव का कायाकल्प हो जाएगा। यह धार्मिक पर्यटक स्थल के रूप में उभर सकता है।

Latest articles

अब Haryana के इन रूटों पर वंदे भारत समेत कई ट्रेनें दौड़ेंगी 130 की स्पीड से, सफर होगा आसान

हरियाणा सरकार जनता के लिए हमेशा कुछ ना कुछ अच्छा करती रहती है। जिससे कि उनका काम आसान हो सके। वह आसानी से कहीं...

हरियाणा के इन जिलों में बनेंगे नए Railway Track, सफर होगा आसान

हरियाणा से और राज्यों को जोड़ने के लिए व जिलों में कनेक्टिविटी के लिए हरियाणा सरकार रोजाना कुछ न कुछ करती की रहती है।...

Haryana में इन लोगो को मिलेंगे E-Smart Card, रोडवेज में कर सकेंगे Free यात्रा, जाने पूरी खबर

लोगों की सुविधा के लिए हरियाणा सरकार हर संभव प्रयास करती है कि गरीब लोगों को किसी के आगे हाथ फैलाने की जरूरत ना...

हरियाणा और पंजाब में इन दोनों हो सकती है भारी बारिश, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

वर्तमान में देखा जाए तो देश के कई हिस्सों में ठंड और कोहरा सक्रिय होता हुआ नजर रहा है। ठंडी हवाएं चलनी शुरू हो...

More like this

हरियाणा के स्कूलों में शुरू हुई नई पहल, अब घर वालों को फोन पर रिजल्ट देंगे स्कूल के अध्यापक

हरियाणा में 10वीं और 12वीं में खराब रिजल्ट वाले स्कूलों के रिजल्ट को सुधारने...

हरियाणा सरकार ने रक्षाबंधन के दिन महिलाओं को दी बड़ी सौगात, किया यह ऐलान

हरियाणा सरकार ने रक्षाबंधन के दिन महिलाओं के लिए बड़ा ऐलान किया है. परिवहन...

Haryana को अब गर्मी से मिलेगी राहत,येलो अलर्ट किया जारी

हरियाणा में लगातार पड़ रही गर्मी से अब लोगों को राहत मिलने की संभावना...