Homeकुछ भीहरियाणा में मौजूद है श्रीराम के जन्म से भी पहले का मंदिर,...

हरियाणा में मौजूद है श्रीराम के जन्म से भी पहले का मंदिर, यहां हुआ था राजसुय यज्ञ, श्रीकृष्ण भी आ चुके हैं इस पवित्र धरा पर

Published on

श्री रामचरितमानस अब तक आपने सिर्फ कागज के पन्नो पर ही पढ़ी होगी। लेकिन आज हम आपको हरियाणा में मौजूद एक ऐसे मंदिर के बारे में बताएंगे जिस की दीवारों पर संपूर्ण श्री रामचरितमानस (The entire Shri Ramcharitmanas is written on the walls) लिखी हुई है। दूर-दूर से श्रद्धालु यहां पूजा अर्चना के लिए आते हैं। खास बात तो यह है कि यहां पर सूर्यग्रहण (no effect of solar eclipse.) का भी कोई प्रभाव नहीं पड़ता। यह मंदिर लोगों की आस्था का केंद्र बन (Suryakund temple at village Amadalpur) चुका है। भारत में ऐसे केवल दो ही मंदिर हैं, एक उड़ीसा के कोणार्क में, तो वहीं दूसरा हरियाणा के यमुनानगर में।

यमुनानगर मुख्यालय से करीब 10 किलोमीटर की दूरी पर मौजूद गांव अमादलपुर स्थित सूर्यकुंड मंदिर उस जगह की पहचान बन चुका है। दूर-दराज से श्रद्धालु यहां पूजा अर्चना करने आते हैं। यह मंदिर अब आस-पास के लोगों की आस्था का केंद्र बन चुका है।

मंदिर की खासियत यह है कि यहां की दीवारों पर संपूर्ण श्री रामचरितमानस एलमुनियम की प्लेटों पर लिखी हुई है और यह पूरी तरह से हस्तलिखित है। इसको लिखने में किसी भी तरह की मशीन का प्रयोग नहीं किया गया है। खास बात तो यह है कि इसको लिखने के लिए बनाई गई स्याही भी औषधियों से तैयार की गई थी।

25 वर्षों लगातार हो रहा रामायण का पाठ

बता दें कि वर्ष 2009 में इस मंदिर का उद्घाटन किया गया था। तब से लेकर अब तक इसकी चमक बरकरार है। बीते 25 वर्षों से लगातार चल रहे रामायण के पाठ ने इसके महत्व को और भी बढ़ा दिया है। न केवल हरियाणा बल्कि उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड और दिल्ली से श्रद्धालु यहां नतमस्तक होते हैं। पुरातत्व विभाग की टीम भी यहां का दौरा कर चुकी है। खुदाई के दौरान यहां यज्ञशाला शिवलिंग और सूर्य को मिले थे।

सूर्य ग्रहण का भी नहीं पड़ता कोई असर

मंदिर के पुजारी ने बताया कि सूर्यग्रहण के समय मंदिर के प्रांगण में आने-वाले किसी भी प्राणी पर ग्रहण का कोई प्रभाव नहीं पड़ता। मंदिर के प्रांगण में सूर्य कुंड इस प्रकार से बना है कि सूर्य की‍ किरणें इस प्रकार पड़ती हैं कि वो कुंड मे ही समा जाती हैं। इसलिए सूर्य ग्रहण के दिन साधु-संत और श्रद्धालु दूर-दूर से यहां दर्शनों के लिए आते हैं। चौमासा में दूर दराज के संत यहां आकर रूकते हैं। क्योंकि जब तक चौमासा चलता है संत किसी भी दरिया को पार नहीं करते।

सूर्यकुंड मंदिर का इतिहास

मंदिर के इतिहास के बारे में पुजारी सुरेश पंडित ने बताया कि त्रेता युग में मध्य से पूर्व भगवान श्रीराम से 43 पीढ़ी पहले सूर्यवंश में राजा मांधाता सूर्यवंश राजा सोभरी ऋषि को आचार्य बनाकर यमुना नदी के किनारे राजसुय यज्ञ किया। यज्ञ में बहुत सारे देवी देवता भी शामिल हुए। यज्ञ संपन्न होने के बाद ऋषियों ने यज्ञ कुंड में जल भरवा दिया और उसे सूर्य कुंड की संज्ञा दी।

भारत में इस तरह के 68 कुंड मौजूद हैं लेकिन सूर्य कुंड के मंदिर केवल दो ही हैं एक जिला यमुनानगर के गांव अमादलपुर में और दूसरा उड़ीसा के कोणार्क में। कहा जाता है कि द्वापर के अंत में सूर्य वंश के अंतिम राजा मित्र ने अपनी कुल समृद्धि के लिए पूर्वजों द्वारा प्रतिष्ठित सूर्य कुंड पर अपने कुल देवता सूर्य नारायण को तपस्या से प्रसन्न किया था। उनकी आज्ञा से ही सूर्य नारायण जी के भव्य मंदिर का निर्माण किया गया।

तीन रंगों में बदलता है कुंड का पानी

बता दें कि सूर्य कुंड का पुनःनिर्माण किया गया था। सूर्य की कृपा से इस कुंड का पानी गर्म और दिन में तीन रंग लाल, हरा और पीले में बदलता रहता है। मान्यता है कि इस कुंड में स्नान करने से सभी तरह के चर्म रोग ठीक हो जाते हैं। अमावस्या संक्रांति पितृपक्ष में पिंड दान करने से पितरों को विशेष तृप्ति होती है।

कहा जाता है कि वनवास के समय पांडव भी यहां आए थे और युधिष्ठिर संवाद भी इसी कुंड पर हुआ था। इस दौरान अर्जुन भगवान शिव से पाशुपत लेने कैलाश गए और शिव को प्रसन्न कर अस्त्र प्राप्त किए। पूजा के लिए उन्होंने चिन्ह मांगा और भगवान शिव ने उन्हें स्वेरुषश्वर लिंग दिया। इसके बाद अर्जुन ने शिव मंदिर का निर्माण कराया और शिवलिंग की स्थापना की।

कहा जाता है कि एक बार श्री कृष्ण और अर्जुन वन विहार करते हुए यमुना के किनारे आ पहुंचे तब उन्होंने यहां पर तपस्या में लीन एक कन्या को देखा। तब अर्जुन ने कन्या से तपस्या का कारण पूछा तो कन्या ने बताया कि वह सूर्य नारायण की पुत्री कालिंदी है और वह भगवान श्रीहरि को पति बनाने के लिए तपस्या कर रही है। इससे श्रीकृष्ण उन्हें इंद्रप्रस्थ ले आए और यह श्रीकृष्ण की आठवीं पटरानी हैं।

आक्रमणकारी ले गए भगवान की प्रतिमा

इसके इतिहास में कहा जाता है कि औरंगजेब के समय हिंदू संस्कृति का पूरी तरह विध्वंस किया गया। उन्होंने हिंदुओं के सभी धार्मिक और ऐतिहासिक स्थानों को नष्ट कर दिया। आक्रमणकारियों ने इस मंदिर पर भी हमला बोला और यहां से भगवान सूर्यनारायण की व अन्य प्रतिमाएं अपने साथ ले गए।

15 मार्च 1983 से श्री श्री स्वामी 1008 अखिलानंद महाराज व श्रद्धालुओं की मदद से सूरज कुंड मंदिर का निर्माण दनोतर हो रहा है। पुजारी बताते हैं कि पहला उड़ीसा स्थित कोर्णाक का सूर्य मंदिर जिसे चंद्रवंशी राजा व भगवान श्री कृष्ण व जामवंती के सुपुत्र शाम ने बनवाया था।

कैसे पहुंचे मंदिर?

अगर आप भी इस मंदिर में आकर भगवान सूर्यनारायण के दर्शन करना चाहते हैं, तो मुख्यालय से सूर्य कुंड मंदिर में पहुंचने के लिए आपको बूड़िया चौक जाना होगा। बूड़िया चौक से अमादलपुर रोड करीब 5 किलोमीटर दूर है। गांव सुघ व अमादलपुर के बीच सड़क किनारे ही मंदिर का मुख्य द्वार मौजूद है। यहां से आपको ऑटो-रिक्शा या अन्य वाहन आसानी से मिल जाएगा।

Latest articles

करनाल के मास्टर एथलीट ने युवाओं को छोड़ा पीछे,31वीं हरियाणा मास्टर्स एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में जीत 71 मेडल

हम सबकी जिंदगी में एक उम्र ऐसी आती है कि, जब हमें सिर्फ़ आराम करना चाहिए। क्योंकि सारी जिंदगी तो हमारी भाग दौड़ में...

चंडीगढ़ की लेडी कॉन्स्टेबल के बेटे ने किया कुछ ऐसा, आज पूरे देश में हो रही है चर्चा, यहां जानें क्या है वो वजह

आज के समय में लोग अपन शौक पूरा करने के लिए नए नए कारनामें कर देते हैं। कुछ कारनामें तो ऐसे भी होते जो...

हरियाणा का एक और बेटा हुआ शहीद,जम्मू में ग्रेनेड ड्रिल के दौरान हुआ हुआ ये हादसा, कैप्टन के पद पर थे तैनात

आए दिन हमारा कोई न कोई वीर जवान बॉर्डर पर आतंकी हमले में शहीद हो जाता है। देश की आन, बान और शान के...

बहुत जल्द दिल्ली की होलसेल मार्केट हरियाणा में हो सकती है शिफ्ट, सीएम मनोहर लाल खट्टर ने दिल्ली के 11 व्यापारी एसोसिएशन से की...

इन दिनों हरियाणा सरकार हरियाणा वासियों को दिल्ली वासियों की तरह सुविधा देने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। पहले जहा सरकार...

तीर्थ स्थलों के दर्शन करने के इच्छुक के लिए खुशखबरी, जल्द चलेंगी हरियाणा रोडवेज की एसी बसें, यहां जानें क्या होगा रूट

हरियाणा में तीर्थ स्थलों के दर्शन करने वाले इच्छुको के लिए एक खुशखबरी है।...

इस दिन बंद रहेगा पूरा हरियाणा, सरकारी छुट्टी की घोषणा, स्कूल से लेकर सरकारी ऑफिस तक रहेंगे बंद रहेंगे

आने वाले सोमवार यानि कि 28 नवंबर को एक बार फिर से हरियाणा सरकार...

More like this

हरियाणा की बेटी ने वुमेंस वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतकर किया देश का नाम रोशन

हरियाणा की बेटी ने आज हरियाणा का सीना गर्व से चौड़ा कर दिया है।...

21 साल की सबसे छोटी सरपंच बनी हरियाणा के इस गांव की बेटी,पंचायत समिति का सदस्य बनकर बढ़ाया गांव का गौरव

हरियाणा में अभी हाल ही में पंचायत के चुनाव हुए हैं इन चुनावों में...

अगर आप करना चाहते हैं कुछ एडवेंचर,तो ज़रूर जाए हरियाणा की इन हांटेड जगहों पर, जल्दी से यहां देखें लोकेशन

अगर आप निडर है और कुछ एडवेंचर करना चाहते हैं।लेकिन आपकों कोई जगह नहीं...