Homeकुछ भीहरियाणा में मौजूद इस पेड़ का है कई राज्यों से गहरा रिश्ता,...

हरियाणा में मौजूद इस पेड़ का है कई राज्यों से गहरा रिश्ता, लोग सुनाते है अपने सुख-दुःख

Published on

कपालमोचन स्थित प्राचीन सूर्यकुंड मंदिर में पुराना कदम का पेड़ हैं। इसकी उम्र का ठोस प्रमाण नहीं है, लेकिन इस पेड़ से हरियाणा ही नहीं पंजाब, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश व उत्तर प्रदेश सहित कई राज्यों के लोगों का रिश्ता हैं। ये लोग हर साल पेड़ से मिलने से आते हैं। अपनी सुख दुख की सुनाते हैं और फिर से आगे साल आने का वायदा कर चले जाते हैं। पुराने पेड़ के प्रति लोगों की गहन आस्था हैं। दूर दराज से आए श्रद्धालु इसकी छांव में बैठकर धर्म समाज व प्राचीन ऐतिहासिक धर्मग्रंथों पर विचार विमर्श करते हैं।

कार्तिक माह में इस पेड़ की विशेष पूजा जाता है। सूरजकुंड के महंत विजय शर्मा के मुताबिक कपालमोचन मेले के दौरान आसपास के प्रदेशों से लाखों श्रद्धालु मंदिर में पेड़ की पूजा अर्चना के लिए पहुंचते हैं।

विजय शर्मा बताते है कि उनके पिता प्रेम चंद शर्मा मोदगिल का बचपन इस पेड़ की नीचे बीता हैं। वह इस पेड़ की कहानियां उनको सुनाया करते थे। अब उनके बच्चे भी यहां पर आते हैं। तीन पीढ़ियों से यह सिलसिला चल रहा है।

यह है मान्यता

कार्तिक पूर्णिमा पर मेले के दौरान लाखों श्रद्धालु कदम के पेड़ की पूजा अर्चना करते हैं। ऐतिहासिक मान्यता है कि इसी पेड़ के नीचे माता कुंती ने सूर्य देवी की तपस्या की थी। जिससे कर्ण नाम के पुत्र की प्राप्ति हुई थी। मेले के दौरान भी महिलाएं इस पेड़ पर सूत बांध कर पुत्र प्राप्ति की कामना करती हैं। मुराद पूरी होने पर भी श्रद्धालु यहां आते हैं।

होता है अलग एहसास

समाजसेवी पंकुश खुराना ने बताया कि वह कई वर्षाें से मंदिर में लगातार पूजा अर्चना के लिए आते हैं। मंदिर परिसर में प्रवेश करते ही सुकून की अनुभूति होती है। वैसे तो मंदिर में दूधाधारी की समाध, सूरजकुंड प्राचीन सरोवर भी स्थित है, लेकिन कदम के पेड़ के समीप पहुंचते ही अलग एहसास होता है।

प्रत्येक पेड़ पौधे का है अपना अलग महत्व

कपालमाेचन की धरा ऋषि मुनियों व तपस्वियों की धरा रही है। यहां पर प्रत्येक पेड़ पौधे व धार्मिक मंदिर का अपना अलग महत्व है। सूरजकुंड के किनारे स्थित कदम के पेड़ की महत्ता बहुत ज्यादा है।

प्राचीन सूरजकुंड सरोवर के समीप अनेक आम, आवले, जामुन, त्रिवेणी व अन्य छाया वृक्ष खडे़ हैं, लेकिन सरोवर के एक किनारे पर राधा कृष्ण मंदिर के समीप स्थित कदम का पेड़ सबसे पुराना है।

Latest articles

अंबाला रोडवेज डिपो को जल्द मिलेंगे नई एसी बस, यहां जानें क्या होगा रूट

लोगों की यात्रा सुविधाजनक और लाभदायक बनाने के लिए, जल्द ही हरियाणा रोडवेज अंबाला डिपो को 4 नई बसें मिलेंगी। इन चार बसों में...

हरियाणा के परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा का बड़ा फैसला, इतने हज़ार तिपहिया और दोपहिया का EV मुफ्त होगा पंजीकरण

हरियाणा में बड़ते पॉल्यूशन को देखते हुए अब हरियाणा में भी दिल्ली की तरह इलेक्ट्रिक वाहन चलेंगे। इन वाहनों पर हरियाणा के परिवहन मंत्री...

हरियाणा के वाहन चालक अब चला सकते हैं वीआईपी नंबर का वाहन,सरकारी वाहनों के लिए अलग होगी नंबर सीरीज

हरियाणा में जिन लोगों को वीआईपी नंबर का वाहन चलाने का शौक, अब उनका शौक जल्दी ही पूरा होने वाला है। क्योंकि अब बहुत...

हरियाणा की ये बेटी पहुंची किक बॉक्सिंग के वर्ल्ड रैंकिंग टॉप-3 में, यहां जानें कौन है वो बहादुर बेटी

म्हारी छोरियां छोरों से कम है के दंगल मूवी का ये डायलॉग कहीं और की बेटियों के ऊपर फिट बैठे या ना बैठे पर...

More like this

हरियाणा के परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा का बड़ा फैसला, इतने हज़ार तिपहिया और दोपहिया का EV मुफ्त होगा पंजीकरण

हरियाणा में बड़ते पॉल्यूशन को देखते हुए अब हरियाणा में भी दिल्ली की तरह...

हरियाणा के वाहन चालक अब चला सकते हैं वीआईपी नंबर का वाहन,सरकारी वाहनों के लिए अलग होगी नंबर सीरीज

हरियाणा में जिन लोगों को वीआईपी नंबर का वाहन चलाने का शौक, अब उनका...