Homeकुछ भीहरियाणा में सूरजमुखी को लेकर बढ़ती जा रही किसानों की दिवानगी, जानें...

हरियाणा में सूरजमुखी को लेकर बढ़ती जा रही किसानों की दिवानगी, जानें क्या है कारण?

Published on

हरियाणा के कृषि क्षेत्र में किसानों की सूरजमुखी के फूलों के प्रति दीवानगी बढ़ती जा रही है। प्रदेश में अब करनाल, कुरुक्षेत्र, कैथल, अंबाला, पंचकूला, यमुनानगर छः जिलों के किसान सूरजमुखी के फूलों की खेती (sunflower floriculture) करने लगे हैं जबकि पहले सिर्फ कुरुक्षेत्र, पंचकूला और यमुनानगर जिलों में ही किसान सूरजमुखी के फूल उगाते थे। आंकड़ों की मानें तो हरियाणा में अब 12,290 हैक्टेयर की जमीन पर 24,630 टन सूरजमुखी के फूलों का उत्पादन किया जा रहा है। वर्ष 2021-22 में 8280 किसानों ने मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल (Meri Fasal Mera Byora Portal) पर सूरजमुखी के फूलों के लिए रजिस्ट्रेशन करवाई थी।

वर्ष 2022-23 के लिए फिलहाल 6600 से अधिक प्रदेश के किसानों ने मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर सूरजमुखी के फूलों की खेती के लिए रजिस्ट्रेशन (Registration for sunflower floriculture) करवाया है। पोर्टल पर फूलों की खेती के लिए रजिस्ट्रेशन करने वाले किसानों के फूल प्रदेश सरकार 6015 रुपये प्रति क्विंटल न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदेगी।

जबकि वर्ष 2014-15 में प्रदेश सरकार हरियाणा के किसानों से सूरजमुखी के फूल 3750 रुपये प्रति क्विंटल न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद रही थी। किसानों को फूलों की व्यवसायिक खेती के प्रति आकर्षित करने के उद्देश्य से सरकार ने सूरजमुखी के फूलों पर न्यनूतम समर्थन मूल्य की कीमत में बढ़ोत्तरी कर दी है।

हरियाणा स्टेट कोओपरेटिव सप्लाई एंड मार्केटिंग फेडरेशन लिमिटेड (Haryana State Cooperative Supply and Marketing Federation Limited) और हरियाणा स्टेट वेयरहाउसिंग कोरपोरेशन (Haryana State Warehousing Corporation) को सूरजमुखी के फूलों की खरीददारी के लिए नोडल एजेंसी बनाया गया है। हरियाणा में मौजूदा समय में छह जिलों में सूरजमुखी के फूलों की खेती की जा रही है। 

क्षेत्र बढ़ा पर प्रति एकड़ उत्पादन हुआ कम

कृषि विशेषज्ञों का कहना है कि सूरजमुखी के फूलों की खेती के लिए जनवरी से फरवरी के महीने के दौरान सूरजमुखी के बीज बोए जाते हैं। फूलों की फसल को तैयार होने में तीन महीनों का समय लगता है। किसान प्रति एकड़ कामीन पर करीब 10 क्विंटल सूरजमुखी के फूलों का उत्पादन करता है।

हालांकि मौजूदा समय में फूलों की खेती की जमीन बढ़ने के साथ प्रति एकड़ कामीन पर सूरजमुखी के फूलों का उत्पादन 8 क्विंटल हो गया है। सूरजमुखी के दानों में तेल की मात्रा 40 फीसदी होती है। सूरजमुखी का तेल कोलैस्ट्रॉल मुक्त होने की वजह से सूरजमुखी के तेल के शौकीनों की तादाद बढ़ती जा रही है।

देश के कई प्रदेशों के किसान इसी वजह से सूरजमुखी की खेती को बढ़ावा दे रहे हैं। प्रदेश सरकार ने भी इसी वजह से न्यूनतम समर्थन मूल्य की राशि में बढ़ोत्तरी की है। आने वाले समय में सोनीपत, पानीपत के अलावा अन्य कई जिलों के किसानों को सूरजमुखी के फूलों की खेती की तरफ प्रेरित किया जाएगा। 

सूरजमुखी की खेती से जुड़े नए जिले

हरियाणा कृषि विभाग के आंकड़ों की मानें तो वर्ष 2020-21 के दौरान करनाल में 0070 हैक्टेयर जमीन पर सूरजमुखी की खेती की जा रही है। करनाल में इससे पहले सूरजमुखी के फूलों की पैदावार नहीं की जाती थी। कुरुक्षेत्र में 6470 हैक्टेयर जमीन पर सूरजमुखी की खेती की जा रही है।

कुरुक्षेत्र के किसान सालों से सूरजमुखी की खेती कर रहे हैं और अब फूलों की खेती का क्षेत्र भी बढ़ गया है। वर्ष 2016-17 में 5300 हैक्टेयर जमीन पर फूल उगाए जाते थे। कैथल जिले के किसानों ने भी अब सूरजमुखी की खेती शुरु कर दी है। यहां की 0020 हैक्टेयर जमीन पर फूल उगाए जा रहे हैं।

अंबाला में 5130 हैक्टेयर जमीन पर सूरजमुखी की खेती की जा रही है। पहले अंबाला में महज 1700 हैक्टेयर जमीन फूलों की खेती को दी गई थी। पंचकूला जिले में 0480 हैक्टेयर जमीन पर फूल उगाए जा रहे हैं। यमुनानगर जिले के किसान 120 हैक्टेयर जमीन पर सूरजमुखी के फूलों की खेती कर रहे हैं। 

पांच सालों का ब्यौरा

वर्ष क्षेत्र (हैक्टेयर) उत्पादन (मि.टन)

  1. 2020-21 12,290 24,630
  2. 2019-20 9,050 16,730
  3. 2018-19 9,440 17,060
  4. 2017-18 5,010 9,540
  5. 2016-17 8,600 12,100

किसानों को किया जा रहा प्रेरित

हरियाणा कृषि विभाग के अधिकारी जगराज डांडी का कहना है कि प्रदेश के किसानों को सूरजमुखी के फूलों की खेती से जोड़ने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। किसानों को वित्तीय सहयोग भी दिया जा रहा है और उनके फूलों को न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदा भी जा रहा है।

फूलों की खेती व्यवसायिक खेती के तौर पर की जा रही है। देशभर में किसानों को सूरजमुखी की खेती से जोड़ने के लिए केंद्र सरकार प्रयास कर रही है और प्रदेश सरकार भी उसी तर्ज पर किसानों को व्यवासियक खेती के गुर भी सिखा रही है, ताकि किसान आय से अधिक कमा सकें।

Latest articles

हरियाणा के इस गांव मे सरपंच बनी नई नवेली दुल्हन, शादी के कुछ दिन बाद ही संभाली गांव की कमान

अभी हाल ही में 25 नवंबर को पूरे हरियाणा में पंचायत चुनाव हुए हैं। इस बार युवाओं ने चुनावो में बढ़ चढ़ के भाग...

हरियाणा सरकार ने भव्य बिश्नोई को बनाया विधानसभा लेखा समिति का मेंबर,इसी हफ्ते ली है विधायक की शपथ

अभी हाल ही में हरियाणा सरकार ने आदमपुर विधानसभा सीट से नवनिर्वाचित विधायक भव्य बिश्नोई को एक नई जिम्मेदारी सौंपी है। उन्हें विधानसभा में...

इस दिन बंद रहेगा पूरा हरियाणा, सरकारी छुट्टी की घोषणा, स्कूल से लेकर सरकारी ऑफिस तक रहेंगे बंद रहेंगे

आने वाले सोमवार यानि कि 28 नवंबर को एक बार फिर से हरियाणा सरकार ने सरकारी छुट्टी घोषित कर दी है। इस दिन सभी...

पंचायत चुनाव मतगणना के अवसर पर कल बंद रहेंगे हरियाणा के सभी ठेके, उल्लंघन करनें पर हो सकती इतने महीने की सजा

बीते शुक्रवार को हरियाणा के सभी जिलों में ग्राम पंचायत के सरपंच के चुनाव हो चूके है। जिसके परिणाम भी उसी दिन ही आ...

आपस में विवाह करने वाले IAS व IPS अधिकारियों के कैडर बदले, इसमें हरियाणा की IAS रेणु सोगन भी शामिल

बीते कुछ समय से आपस में विवाह करने वाले IAS व IPS अधिकारियों के...

हरियाणा के इस जिले में अब कचरे का होगा पुनः उपयोग, बेकार बोतलो और कांच के टुकड़े से बनेंगी चूड़ियां

दिनों दिन बढ़ते कूड़े की समस्या को देखते हुए अंबालानगर परिषद सदर क्षेत्र ने...

हरियाणा में सरकार को मजबूत बनाने के लिए भाजपा – जजपा मिलकर करेंगे बड़ी रैली का आयोजन, गठबंधन मजबूत बनाने के लिए अपनाई नई...

इन दिनों हरियाणा में बीजेपी (भारतीय जनता पार्टी) और जजपा (जननायक जनता पार्टी) अपने...

More like this

हरियाणा सरकार ने भव्य बिश्नोई को बनाया विधानसभा लेखा समिति का मेंबर,इसी हफ्ते ली है विधायक की शपथ

अभी हाल ही में हरियाणा सरकार ने आदमपुर विधानसभा सीट से नवनिर्वाचित विधायक भव्य...

पंचायत चुनाव मतगणना के अवसर पर कल बंद रहेंगे हरियाणा के सभी ठेके, उल्लंघन करनें पर हो सकती इतने महीने की सजा

बीते शुक्रवार को हरियाणा के सभी जिलों में ग्राम पंचायत के सरपंच के चुनाव...