Homeकुछ भीब्यूटी विद ब्रेन: ये हैं देश की सबसे खूबसूरत महिला IAS, बनीं...

ब्यूटी विद ब्रेन: ये हैं देश की सबसे खूबसूरत महिला IAS, बनीं CM दफ्तर की सबसे कम उम्र की अधिकारी

Published on

यूपीएससी की परीक्षा भारत की सबसे कठिन परीक्षा मानी जाती है। हर किसी का सपना होता है कि वह देश के लिए कुछ करे। लाखों उम्मीदवार हर साल यूपीएससी की परीक्षा देते हैं लेकिन कुछ ही इसमें सफल हो पाते हैं। आईएएस और आईपीएस अधिकारी का चयन यूपीएससी परीक्षा के बाद ही होता है। इसको पार करने के लिए परीक्षार्थी की दिन-रात की मेहनत और कड़ा परिश्रम होता है। वहीं एक आईएएस अधिकारी का कहना है कि कुछ चीजें रुचि और शौक पर भी निर्भर करती हैं। जिससे हम किसी भी मुश्किल पड़ाव को आसानी से पार कर सकते हैं। लोगों के लिए काम करें और लोगों की सेवा करें। यह सिर्फ एक विचारधारा है लेकिन जिसका अनुसरण हमारे अपने “पीपल्स ऑफिसर” IAS स्मिता सभरवाल द्वारा किया जाता है। हर UPSC आकांक्षी अध्ययन की शक्ति में विश्वास करता है, और फिर कड़ी मेहनत करता है।

यह इस महिला आईएएस अधिकारी का मामला नहीं था। उनके शब्दों में, यह सोचना गलत है कि कोई भी व्यक्ति सिविल सेवा के माध्यम से केवल बहुत कठिन अध्ययन करके प्राप्त कर सकता है। अंतिम दौर में आपकी रुचियों और शौक को भी चयन के लिए ध्यान में रखा जाता है।

अपने दृढ़ संकल्प और माता-पिता के समर्थन के साथ वर्ष 2020 में यूपीएससी क्रैक करने के बाद स्मिता सभरवाल ने हर बंधन को तोड़ दिया। यह सबसे कम उम्र की आईएएस ऑफिसर की कहानी है। जिसे इसके अतिरिक्त सचिव के रूप में सीएम कार्यालय में बनाया।

यह आईएएस अधिकारी युवा बुद्धि सेना के एक अधिकारी की बेटी है। यह दार्जिलिंग के मूल निवासी है। अब वह हैदराबाद में बस गए। अपने बचपन के दिनों को देखते हुए, IAS Officer बनना कभी उसका सपना नहीं था। हालांकि वह केवल शिक्षा और सीखने की शक्ति में विश्वास करती थी।

उनका जन्म 19 जून 1977 में हुआ था। वह कर्नल प्रणब दास की बेटी हैं। स्मिता ने आईपीएस ऑफिसर डॉक्‍टर अकुन सबरवाल से शादी की है, उनके दो बच्‍चे नानक और भुविश हैं। उन्होंने कॉमर्स से ग्रेजुएशन की है। स्मिता ने सिर्फ 23 साल की उम्र में IAS परीक्षा को पास किया। वहीं बात करें ऑल इंडिया रैंकिंग की तो उन्हें ऑल इंडिया रैंकिंग में चौथा स्थान मिला था।

बता दें कि इनकी पहली नियुक्ति चित्तूर जिले में बतौर सब-कलेक्टर हुई और फिर उन्होंने एक दशक तक आंध्र प्रदेश के कई जिलों में काम किया था। उसके बाद उन्हें अप्रैल, 2011 में करीमनगर जिले का डीएम बनाया गया।

जहां पर उन्होंने हेल्थ केयर सेक्टर में ‘अम्माललाना’ प्रोजेक्‍ट की शुरुआत की। इस प्रोजेक्‍ट की सफलता के चलते उन्हें प्राइम मिनिस्टर एक्सीलेंस अवार्ड से भी सम्मानित किया गया है। स्मिता के करीमनगर में डीएम के तौर पर तैनात रहने के दौरान ही करीमनगर को बेस्ट टाउन का भी अवॉर्ड भी मिला चुका है।

वह 2001 बैच की आईएएस अफसर है। वह तेलंगाना के मुख्यमंत्री कार्यालय में तैनात होने वाली पहली महिला आईएएस अधिकारी हैं। स्मिता को जनता के अफसर के तौर पर जाना जाता है। उन्होंने ने अपनी स्कूली शिक्षा सेंट एनन्स, मार्रेडपल्ली, हैदराबाद से की है। यह सीखने में उनकी रुचि थी कि पूरे भारत में उनके 12 वीं कक्षा में आईसीएसई बोर्ड में टॉप किया।

स्मिता ने महिलाओं के लिए सेंट फ्रांसिस डिग्री कॉलेज से कॉमर्स में स्नातक की पढ़ाई जारी रखी। इनका मानना है कि जिस व्यक्ति ने वास्तव में उसे समाज में बदलाव लाने के लिए प्रेरित किया, वह उनके पिता थे। हालांकि उसकी मां के शब्दों में अपना दिल लगाते ही सब कुछ प्रासंगिक हो जाता है।

अपनी स्नातक की पढ़ाई पूरी करने के तुरंत बाद, उन्होंने UPSC परीक्षाओं की तैयारी शुरू कर दी। हालांकि किस्मत ने उनके लिए कुछ और ही योजना बनाई थी। अपने पहले प्रयास में वह सफल नहीं हो पाईं लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी।

उनकी यह यात्रा आसान नही थीं बल्कि बहुत ही कठिन और थकाऊ भी थी। हालांकि, वह अपने शिक्षाविदों और उनके शौक के बीच एक उचित संतुलन बनाए रखने में विश्वास करती थीं। जब उन्होंने तय कर लिया कि उन्हें क्या करना है, तो उन्होंने निश्चय किया और फिर किसी भी रुकावट से हार नहीं मानी। वह हर दिन 6 घंटे पढ़ाई करती थी। मन को शांत रखने के लिए वह रोज शाम को एक घंटा गेम्स भी खेलती थी।

वह सभी चीजों का अपडेट रखने के लिए रोजाना अखबार भी पढ़ती थी। जिसके माध्यम से उन्हें पता चल जाता था कि देश में क्या चल रहा है। वह वाणिज्य पृष्ठभूमि से संबंधित थीं, लेकिन उन्होंने अपने वैकल्पिक विषयों के रूप में मानव विज्ञान और सार्वजनिक मामलों को लिया।

उन्होंने वर्ष 2000 में सफलता को पाया। इस 23 वर्षीय महिला ने UPSC परीक्षाओं को पास किया और AIR-4 प्राप्त किया। वह एक कारण के लिए “पीपुल्स ऑफिसर” है। वारंगल में सेवा करते समय, उसने पुलों, अस्पतालों, सड़कों आदि की उपयोगिता सेवाओं के पूरक के लिए “फंड योर सिटी” योजना पेश की, यह एक सार्वजनिक निजी भागीदारी थी।

इन्होंने महिला वर्ग के उत्थान में प्रयास भी किया। ग्रामीण पृष्ठभूमि में लोगों के जीवन स्तर को ऊपर उठाने के लिए कई अभियान और सामाजिक जागरूकता कार्यक्रम चलाए। इसके अलावा हर समय अपने काम पर नजर रखने के लिए उसने सुनिश्चित किया कि मॉनिटर सार्वजनिक उपयोगिता वाले स्थानों के अंदर फिट किए गए थे।

वर्तमान में IAS स्मिता सभरवाल तेलंगाना के मुख्यमंत्री के सचिव के रूप में सेवारत हैं। उनके पति अकुन सभरवाल एक दृढ़निश्चयी IPS अधिकारी हैं। कहा जाता है, उसके शासन में हर दिन 200-300 लोगों के अनुरोधों पर विचार किया जाता है।

Latest articles

एक मुस्लिम लड़की के प्यार में 9 साल तक तड़पते रहे सुनील शेट्टी, जाने पुरी कहानी

सोशल मीडिया पर इन दिनों अथिया शेट्टी की शादी के चर्चे हो रहे है। अथिया की वेडिंग फोटोज सोशल मीडिया पर वायरल हो रही...

Haryana के इस जिले में देखा गया अनोखा पक्षी, इसे देखने के लिए पक्षी प्रेमियों में बढ़ा उत्साह

अलग अलग तरह के पक्षी को देखने का शौक रखने वाले पक्षी प्रेमियों के लिए ये ख़बर किसी खुशखबरी से कम नहीं है, क्योंकि...

Haryana के इस व्यक्ति ने अपने शौक के दम पर बनाई अपनी पहचान, आज विदेश तक जानते हैं लोग

आपने अक्सर अपनी जिंदगी में सुना होगा कि शौक बड़ी चीज़ है, व्यक्ति का यह शौक उसकी जिंदगी बिगाड़ भी सकता हैं और बना...

Haryana के इस जिले के लोगों को जल्द मिलेगी एक नई सड़क, इसे बनाने में 2 करोड़ 15 लाख रुपए किए जाएंगे खर्च

हरियाणा के लोगों के लिए एक खुशी की खबर सामने निकल कर आई है। क्योंकि बहुत जल्द यहां के लोगों को एक नई सड़क...

इस बार गणतंत्र दिवस के समारोह में ख़ास तरीके से दिखेंगी हरियाणा की झलक,देखने को मिलेगा ये सब

इस बार गणतंत्र दिवस का समारोह ख़ास होने वाला है, क्योंकि इस बार राष्ट्रीय...

हरियाणा के इन जिलों में आने वाले 3 दिनों तक ट्रेनें रहेंगी बंद,ये होगी इसके पीछे की वजह

हरियाणा में ट्रेन से सफर करने वाले लोगों के लिए ये ख़बर बड़े ही...

हरियाणा में पिता ने बेटी का घोड़ी पर बनवारा निकालकर समाज को दिया नया संदेश

देश में जैसे जैसे लोग शिक्षित होते जा रहे हैं, वैसे ही लोगों में...

मलाइका अरोड़ा का योगा देख बोले लोग बुढ़ापे मे भी गजब का फिगर है!

मलाइका अरोड़ा बॉलीवुड जगत की आइटम गर्ल है। मलाइका अरोड़ा ने बॉलीवुड मूवीज के...

More like this

पठान मूवी में शाहरुख से ज्यादा चर्चे सलमान खान के कैमियो के है, क्रेजी हुए भाईजान के फैंस

करीब 4 साल बार शाहरुख खान बड़े पर्दे पर अपनी पठान मूवी के साथ...

मस्जिद के कमरे में बीता था इरफान पठान का बचपन, अब परिवार के साथ जी रहे है आलीशान जिंदगी

भारतीय क्रिकेट के पूर्व खिलाड़ी इरफान पठान जिन्होंने भारतीय राष्ट्रीय क्रिकेट टीम में 2003...

भारतीय वॉलीबॉल टीम की Captain ने हरियाणा के बेटे के संग लिए 7 फेरे, यहां देखें शादी की तस्वीरे

शुक्रवार के दिन भारतीय वॉलीबॉल टीम की Captain निर्मल तंवर और Railway अधिकारी दीपक...